Contact me हमसे संपर्क करे...

statesmanil `,`, ♥ ↔♥ Feel free to contact me. Your comments and advices are valuable for me. हमसे संपर्क करने में सहज महसूस करें. आपकी टिप्पणियां एवं सुझाव मेरे लिया मूल्यवान है.

वेब की दुनिया में दोस्तों की खरीद-बिक्री शुरू


We knows from our childhood that every thing is not subject of market and we can not purchase many things by money. We learned that money can bye bed but not sound-sleep, money can buy ..... but not respect, ect etc. Even I stand with that statements. This news article not making so much surprise because market forces can make nay thing possible. Here it is even not a virtual friendship because even in virtual friendship you/have to have some conversation and at minimum level of mutual understanding. This is a highly materialistic kind of showing off (only). Is it better to say now relation come into market! Now read the original news article from Jagran ....

वेब की दुनिया में दोस्तों की खरीद-बिक्री शुरू 

http://in.jagran.yahoo.com/news/international/general/3_5_6094916/
Published on Jan 11 2010 at 4.16PM Retrieved on Jan 11 2010 at 11.45PM
लंदन। अभी तक तो लोग कामुक बातें करने के लिए 'दोस्त' बनाते थे और इसके लिए टेलीफोन लाइनों और अंतरराष्ट्रीय वेबसाइटों पर पैसा खर्च करते थे। लेकिन अब बात सामान्य दोस्तों की लंबी सूची रखने के फैशन तक आ गई है। ..और लोग इसके लिए धन देने में नहीं हिचकिचा रहे।
सोशल नेटवर्किंग साइट पर खुद को लोकप्रिय दिखाने का यह नया हथकंडा है। लोकप्रियता पाने और अकेलापन दूर करने के लिए ब्रिटेन वासी आनलाइन दोस्तों की खूब खरीद फरोख्त कर रहे हैं। ट्विटर और फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट पर एक हजार लोगों का संपर्क पाने के लिए लोग बेहिचक 125 पाउंड [करीब नौ हजार रुपये] खर्च कर रहे हैं।
ऐसे लोगों की सूची को बेचने का काम करने वाली कंपनी यूसोशल की रिपोर्ट के मुताबिक क्रिसमस और नए साल के अवसर पर भारी संख्या में लोगों ने उससे संपर्क साधा। पैसा देकर दोस्त पाने वाले, 24 वर्षीय बास लियान के अनुसार, 'चैट करने के लिए लोग दोस्तों की सूची खरीद रहे हैं, ताकि वह अकेलापन दूर कर सकें। अगर आप लोकप्रिय नहीं होंगे, तो इन साइट पर आपको कोई पूछेगा नहीं।'
आस्ट्रेलिया में इस तरह की खरीददारी पर रोक लगाने के लिए फेसबुक के वकील ने इस योजना को बंद कराने की कोशिश की थी। उनका कहना है इससे आस्ट्रेलियाई नियम और कानूनों का उल्लंघन होता है।

Share on Google Plus

About Anil Kumar

    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 CLICK for COMMENTs प्रतिक्रियाएं....:

Post a Comment